Friday, January 14, 2011

समय के पर भी है एक सूरज
जो आतुर है
तुम्हारे बुलावे का
पुकारो कभी उसे
वैसे ही
जैसे पुकारता है
बच्चा मां को
सौंप दो राशि राशि खुद को
देखो
सूरज बिखरता है खील खील
मन आंगन को सराबोर करता हुआ
हजार हजार रोशनियों का चमत्कार
आह्लाद
और आनंद एक साथ
बोले कौन
बोले कैसे
ये होता है तो बस होता है
बस फिर सूरज ही सूरज होता है
नहीं होता कोई और
न मैं,न तू,न आंगन
कुछ नहीं बचता जब
तभी होता है सूरज खील खील

1 comment: