Tuesday, November 8, 2011

कुछ तो है जो बदला है

माँ बनाती थी रोटी
पहली गाय की
आखरी कुत्ते की
एक बामणी दादी की
एक मेहतरानी की

अलस्सुबह
सांड आ जाता
दरवाज़े पर
गुड की डली के लिए

कबूतर का चुग्गा
कीड़ीयों का आटा
ग्यारस,अमावस,पूनम का सीधा
डाकौत का तेल
काली कुतिया के ब्याने पर
तेल गुड का हलवा
सब कुछ निकल आता था
उस घर से
जिस में विलासिता के नाम पर
एक टेबल पंखा था

आज सामान से भरे घर से
कुछ भी नहीं निकलता
सिवाय कर्कश आवाजों के

6 comments:

Dr.Nidhi Tandon said...

बदला तो है......

इस्मत ज़ैदी said...

बेह्तरीन चित्रण !!

' मिसिर' said...

दूसरों के लिए मदद दिल से निकलती है ,मकानों से नहीं !

Poorva Singh said...

Bahut khoob.......

mahendra singh said...

विलासिता के नाम पर केवल था छोटा ऐक पंखा ।
छोटासा था बटवा , और थी छोटीसी थी वो तनखा ।
वो ही आसमा ,वो ही धरा ,फर्क पड़ा केवल मनका ।
लोभ लिपट गया सम्बंधो पर प्रभाव पड़ा है धनका ।
बहूत अछा लिखा है शर्मा जी

Ajay Singhal said...

jeevant hai ..
sab kuch dekha hai humne ghar par... aaj tak ye saare niyam nibhaye jaa rahe hai.. magar kolkata main na to dekhne ko gaay-saand hai na kutte hain roti khilaane ke liye.. kya vivashta hai ki chah ke bhi chidiyon ko daane nahi daal paate, naahi kutia ke biyaane pe kuck kar paate hai.. na koi kutte ke chotte chotte pille aangan main khelte hai.. na hi gop-astami ka aayojan kiya jaa sakta hai..

vivashtaa kahe ya ki isse hum kya kahe magar jo bhi hai ras khatam hota jaa raha hai ..

jab insaan insaan se ladaai kar raha hai.. to kutte-billi, chidiyaan-kauva, gaay-saand aadi ityaadi ke baare main kahaan soch paata hai insaan ..